WELCOME

Thanks for visiting this blog. Please share information about this blog among your friends.

Various information, quotes, data, figures used in this blog are the result of collection from various sources, such as newspapers, books, magazines, websites, authors, speakers etc. Unfortunately, sources are not always noted. The editor of this blog thanks all such sources.

Comments and suggestions are invited.

Keshav Ram Singhal
keshavsinghalajmer@gmail.com
krsinghal@rediffmail.com

Technical and Financial Support - Singhal Institute for Training and Education Trust


Wednesday, 31 August 2016

बुजुर्गो के फेसबुक, ट्विटर इस्तेमाल करने से मधुमेह और रक्तचाप में कमी


न्यूयॉर्क: आप अपने दादा-दादी को फेसबुक पर दोस्त बनाते और ऑनलाइन चैट या मैसेंजर का स्मार्टफोन पर इस्तेमाल करते देख हैरान होते होंगे? यदि ऐसा है तो चैन की सांस लीजिए. बुजुर्गो का सोशल मीडिया में लगे रहना उनके अकेलेपन को कम करने के साथ मधुमेह और उच्च रक्तचाप को घटाता है.

शोधकर्ताओं का कहना है कि इसकी वजह सोशल मीडिया तकनीक के ईमेल, ट्विटर, स्काइप आदि में सफलता के साथ रिश्ते बना लेने की क्षमता है. अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर विलियम चोपिक ने कहा, "सोशल तकनीक से हर किसी से जुड़ाव शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के जरिए अकेलेपन को घटाता है."

अध्ययन में यह पाया गया है कि जो प्रतिभागी सोशल मीडिया पर सक्रिय रहे वे जीवन से ज्यादा संतुष्ट दिखे और उनमें अवसाद के कम लक्षण दिखे. साथ ही उनमें उच्च रक्तचाप और मधुमेह भी कम रहा.

शोध में भाग लेने वाले 95 फीसदी से ज्यादा बुजुर्ग प्रतिभागियों ने कहा कि वे तकनीक से 'कुछ हद तक' या 'बहुत' संतुष्ट हैं, जबकि 75 फीसद प्रतिभागियों ने नई तकनीक सीखने का विरोध नहीं करने की बात कही. अध्ययन में शोधकर्ताओं के दल ने तकनीक के इस्तेमाल के लाभ का परीक्षण किया. इसमें सोशल मीडिया से जुड़े औसतन 68 साल की उम्र वाले 591 प्रतिभागियों पर अध्ययन किया गया.

यह निष्कर्ष ऑनलाइन पत्रिका 'साइबरसाइकॉलोजी, बिहेवियर एंड सोशल नेटवर्किंग' में प्रकाशित किया गया है.

(KHABAR.NDTV.COM से साभार)

Monday, 1 August 2016

बढ़ती उम्र ... गरिमा के साथ रहने के लिए कुछ उपाय



बढ़ती उम्र ... गरिमा के साथ रहने के लिए कुछ उपाय

# अपनी स्वतंत्रता और निजता का आनंद लेने के लिए अपने में मस्त रहें।

# अपनी बैंक जमा और संपत्ति पर अपना स्वामित्व रखें।

# अपनी देखभाल के लिए केवल अपने बच्चों के वादों पर निर्भर ना रहें, क्योंकि उनकी प्राथमिकताएं बदल सकती हैं।

# अपने मित्रों के दायरे में विस्तार करें।

# दूसरों से अपनी तुलना ना करें।

# दूसरों से आशा ना करें।

# अपने बच्चों के जीवन में हस्तक्षेप करने से बचे। उन्हें उनके अनुसार जीवन जीने दें।

# दूसरे क्या कहते हैं सुनो, पर स्वतन्त्र सोचो और कार्य करो।

# प्रार्थना करो, पर भीख ना मांगो - भगवान से भी। यदि भगवान से मांगना है तो अपनी गलतियों के लिए क्षमायाचना करो।

# # और अंत में,
अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें,
अच्छा भोजन अच्छे तरीके से खाएं,
अपना काम स्वयं करें
और
जीवन से संन्यास ना लें।

शुभकामना सहित,

केशव राम सिंघल

Monday, 2 May 2016

Aging: The facts and problems


India, like many other developing countries in the world, is presently witnessing rapid ageing of its population.. Even though the proportion of India’s elderly is small compared with that of developed countries, the absolute number of elderly population is on the high. There has been tremendous increase in the number of elderly population since independence in India from 20.19 million in 1951 (5.5 per cent of total population) to 43.17 million in 1981 and 55 million in 1991. According to 2001 census around 77 million population is above 60 years which constitutes 7.5 per cent of the total population of the country. This number is expected to increase to 177.4 million in 2025.

Providing care for the aged had never been a problem in India where a value based joint family system was dominant. However, with a growing trend towards nuclear family set-up, and increasing education, urbanization and industrialization, the vulnerability of elderly is rapidly increasing.

Sociologically, ageing marks a form of transition from one set of social roles to another, and such roles are difficult. Among all role transformation in the course of ageing, the shift into the new role of the ‘old’ is one of the most complex and complicated.

In an agriculture based traditional society, where children followed their parent’s occupation, it was natural that the expertise and knowledge of each generation were passed on to the next, thus affording older persons a useful role in society. However, this is no longer true in modern society, in which improved education, rapid technical change and new forms of organization have often rendered obsolete the knowledge, experience and wisdom of older persons. Once they retire, elderly people find that their children are not seeking advice from them anymore, and society has not much use for them.

This realization often results in feeling of loss of status, worthlessness and loneliness. The growth of nuclear families has also meant a need for changes in role relations. Neither having authority in the family, nor being needed, they feel frustrated and depressed. If the older person is economically dependent on the children, the problem is likely to become even worse.

Problems faced by the elderly.

Economic Problems

Economic factors definitely play a major role in generating care for elderly people. The economic status, of the family, as well as that of the care-receiver, the functional ability status of the care receiver and care giver is an additional factor that appears to contribute to the burden.

Psychological Problems

The common psychological problems that most of the older persons experience are : feeling of powerlessness, feeling of inferiority, depression, uselessness, isolation and reduced competence use.

Health Problems

Health problems are supposed to be the major concern of a society as older people are more prone to suffer from ill health than younger age groups. It is often claimed that ageing is accompanied by multiple illness and physical ailments. Heart conditions (hypertension, vascular disease, congestive heart failure, high blood pressure and coronary artery disease,dementia,depression,eye problems etc)

Courtesy - CSR@NHANCE Monthly e-Newsletter, Vol. No.24, May 2016
Website:www.nhancecsr.com

Tuesday, 12 April 2016

LIFE AFTER SIXTY


LIFE AFTER SIXTY

Life can begin at 60, it is all in your hands!

Many people feel unhappy, health-wise and security-wise, after 60 years of age, owing to the diminishing importance given to them and their opinions. But, it need not be so, if only we understand the basic principles of life and follow them scrupulously.

Here are some mantras to age gracefully and make life after retirement pleasant.

Never say 'I am aged'

There are three ages, chronological, biological, and psychological. The first is calculated based on our date of birth; the second is determined by the health conditions; the third is how old we feel we are. While we don't have control over the first, we can take care of our health with good diet, exercise and a cheerful attitude. A positive attitude and optimistic thinking can reverse the third age.

Health is wealth

If you really love your kith and kin, taking care of your health should be your priority. Thus, you will not be a burden to them. Have an annual health check-up and take the prescribed medicines regularly. Do take health insurance coverage.

Money is important

Money is essential for meeting the basic necessities of life, keeping good health and earning family respect and security. Don't spend beyond your means even for your children. You have lived for them all through and it is time you enjoyed a harmonious life with your spouse. If your children are grateful and they take care of you, you are blessed. But, never take it for granted.

Relaxation and recreation

The most relaxing and recreating forces are a healthy religious attitude, good sleep, music and laughter. Have faith in God, learn to sleep well, love good music and see the funny side of life.

Time is precious

It is almost like holding a horses' reins. When they are in your hands, you can control them. Imagine that everyday you are born again. Yesterday is a cancelled cheque. Tomorrow is a promissory note. Today is ready cash - use it profitably. Live this moment; live it fully, now, in the present time.

Change is the only permanent thing

We should accept change - it is inevitable. The only way to make sense out of change is to join in the dance. Change has brought about many pleasant things. We should be happy that our children are blessed.

Enlightened selfishness

All of us are basically selfish. Whatever we do, we expect something in return. We should definitely be grateful to those who stood by us. But, our focus should be on the internal satisfaction and the happiness we derive by doing good for others, without expecting anything in return. Perform a random act of kindness daily.

Forget and forgive

Don't be bothered too much about others' mistakes. We are not spiritual enough to show our other cheek when we are slapped in one. But for the sake of our own health and happiness, let us forgive and forget them. Otherwise, we will be only increasing our blood pressure.

Everything has a purpose

Take life as it comes. Accept yourself as you are and also accept others for what they are. Everybody is unique and is right in his own way.

Overcome the fear of death

We all know that one day we have to leave this world. Still we are afraid of death. We think that our spouse and children will be unable to withstand our loss. But the truth is no one is going to die for you; they may be depressed for some time. Time heals everything and they will go on.

(Compiled Article - Writer Unknown)

Saturday, 26 September 2015

वरिष्ठ नागरिक की आयु परिभाषा निर्धारित करने की जरुरत


वरिष्ठ नागरिक की आयु परिभाषा निर्धारित करने की जरुरत
(Need to determine the age definition of senior citizen)


अधिकांश देशों में वरिष्ठ नागरिक या बुजुर्ग व्यक्ति की आयु निर्धारित करने के लिए कोई सर्वमान्य परिभाषा नहीं है. कुछ देशों में 60 वर्ष और अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ (बुजुर्ग) माना जाता है तो कुछ अन्य देशों मंं 65 वर्ष और अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ (बुजुर्ग) माना जाता है. फिलहाल इस सम्बन्ध में कोई संयुक्त राष्ट्र संख्यात्मक मानक कसौटी (UN Standard Numerical Criterian) नहीं है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र (UN) बुजुर्गों की आबादी के लिए 60+ वर्ष की सीमा पर सहमत है. बुढ़ापे की परिभाषा के लिए सामान्यतौर पर इस्तेमाल परिभाषाए हैं, पर व्यक्ति कब बुजुर्ग या बूढ़ा हो जाता है पर कोई आम सहमति नहीं है.

1875 में ब्रिटेन में 'The Friendly Societies Act' में बुढ़ापे की उम्र '50 के बाद कोई भी उम्र' परिभाषा के रूप में अधिनियमित की गई, पर ज्यादातर पेंशन योजनाओं में उम्र पात्रता के लिए 60 या 65 साल उम्र मानी गई. भारत में भी सर्वमान्य एक परिभाषा नहीं है. आयकर अधिनियम के अंतर्गत वर्तमान में 60 वर्ष से 80 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ नागरिक और 80 वर्ष और अधिक आयुके व्यक्ति को अति-वरिष्ठ नागरिक माना गया है, जबकि कुछ वर्ष पहले 65 वर्ष या अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ नागरिक माना जाता था. भारत सरकार का रेल विभाग रेल टिकट और आरक्षण के लिए 58 वर्ष और अधिक आयु की महिला तथा 60 वर्ष और अधिक आयु के पुरुष को वरिष्ठ नागरिक मानकर रेल टिकट किराए में छूट और रेल आरक्षण में आरक्षण-भाग (Reservation quota) प्रदान करती है. भारत सरकार और अधिकांश राज्य सरकारों की सामाजिक सुरक्षा और वृद्धावस्था पेंशन योजनाओं में 60 वर्ष की आयु पात्रता के लिए रखी गई है. एयर इंडिया भारतीय राष्ट्रीयता के वरिष्ठ नागरिक, जो स्थाई रूप से भारत में निवास करते हों तथा यात्रा के दिन जिन्होंने 63 वर्ष की आयु पूरी कर ली हो, को किराए में रियायत देती है.

भारत में अब पूँजीवाद (Capatalism) धीरे-धीरे अपना पैर पसार रहा है और तकनीक विकास (Technology development) तेजी से हो रहा है. मानव द्वारा किए जाने वाले बहुत से काम अब तकनीक की सहायता से होने लगे हैं और मानव निर्भरता (Human-dependance) कम हो रही है. परिणाम सामने है - रोजगार के अवसर कम हो रहे हैं. लोगों को नौकरी से निकाला जा रहा है, अनिवार्य या स्वैच्छिक सेवानिव्रति (Compulsory or voluntary retirement) दी जा रही है. ऐसे में अब 55 वर्ष और अधिक आयु को वरिष्ठ नागरिक की एक सर्वमान्य परिभाषा के रूप में निर्धारित करने की जरुरत महसूस हो रही है.

आप इस बारे में क्या सोचते हैं? अपनी राय अवश्य रखें.

इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें ताकि वरिष्ठ नागरिक की एक सर्वमान्य परिभाषा बनाने के लिए सरकारी-तन्त्र पर दवाब बन सके. धन्यवाद,

- केशव राम सिंघल

Please CLICK HERE for Senior Citizen Awareness Group.


Wednesday, 23 September 2015

बुजुर्गों में होने वाली बीमारी 'अल्जाइमर' (Alzheimer)






पूरे विश्वं में सितंबर माह 'अल्जाइमर्स माह' (Alzheimer's Month) और 21 सितम्बर 'अल्जाइमर दिवस' (Alzheimer Day) के रूप में मनाया जाता है. आमतौर पर 'अल्जाइमर' बुजुर्गों में होने वाली भूलने की बीमारी है, जो मस्तिष्क से जुड़ी होती है. 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्ति हर बात भूलने लगता है. यहाँ तक कि कुछ समय पूर्व घटना उसे याद नहीं रहती, नाम और पते याद नहीं रहते, जीवन से जुड़ी घटनाएँ याद नहीं रहती. आमतौर से यह पाया गया है कि 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्ति अपने जीवन के अन्तिम पड़ाव पर पहुँच जाता है. विश्वं में भूलने की बीमारी से ग्रसित 70 प्रतिशत बुजुर्ग 'अल्जाइमर' रोग के शिकार होते हैं. इस वर्ष की एक रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्वं में 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्तियों की संख्या 4.6 करोड़ से अधिक है और इस रोग से ग्रसित मरीजों की संख्या हर 20 वर्षों में दुगुनी हो रही है. भारत में एक अनुमान के अनुसार इस रोग से ग्रसित मरीजों की संख्या लगभग 40 लाख है.

यह बीमारी क्यों होती है? इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं पता, फिर भी ऐसा माना जाता है कि बढ़ती उम्र और आनुवंशिक कारणों से यह बीमारी होती है जिसमें मस्तिष्क की याददाश्त से जुड़ी तंत्रिकाएँ निष्क्रिय होने लगती हैं. इस बीमारी का प्रारंभिक लक्षण हाल की घटनाओं को भूलने से लगता है. समस्या जब बढ़ती है तो मरीज़ में बोलने की समस्या, आत्म-विश्वास में कमी, मूड में बदलाव, अपनी देखभाल ख़ुद करने में परेशानी आदि देखने को मिलती हैं. इस बीमारी से पीड़ित मरीज सामान रखकर भूल जाते हैं. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे यह रोग भी बढ़ता जाता है. याददाश्त क्षीण होने के अलावा रोगी की सोच-समझ, भाषा और व्यवहार पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. इस बीमारी से ग्रसित लोगों को देखभाल की जरुरत होती है, इसलिए परिजनों का दायित्व बनता है कि वे उचित देखभाल करें. परिजनों की उचित देखभाल ही ऐसे बुजुर्ग को लम्बी आयु प्रदान करते हैं. यह परिजनों का दायित्व है कि इस रोग के उपचार के लिए इस रोग से ग्रसित बुजुर्ग की दिनचर्या को सहज व नियमित बनाएं, समय पर भोजन, नाश्ता, बटन रहित कुर्ता पजामा, सुरक्षा आदि पर विशेष ध्यान दें. बुजुर्ग का कमरा खुला व हवादार हो. इस रोग से ग्रसित बुजुर्ग की आवश्यकता की वस्तुएं एक स्थान पर रखें. इस रोग से इलाज के लिए कुछ ऐसी दवाएं उपलब्ध हैं, जिनके सेवन से इस रोग से ग्रसित बुजुर्गों की याददाश्त और उनकी सूझबूझ में सुधार होता है. ये दवाएं रोगी के लक्षणों की तीव्रता को कम करने या दूर करने में सहायक होती हैं.

भारतीय समाज में इस बीमारी के बारे में ज्यादा जागरुकता नहीं है. आमतौर पर बीमारी के शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज कर दिया जाता है. जरूरत है कि बीमारी के शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज ना किया जाए, बल्कि उचित डाक्टरी परामर्श लिया जाए.

(संकलित सामग्री)

- केशव राम सिंघल

Monday, 21 September 2015

INCOME TAX RATES FOR SENIOR CITIZEN AND SUPER SENIOR CITIZENS FOR ASSESSMENT YEAR 2016-17



INCOME TAX RATES FOR SENIOR CITIZEN AND SUPER SENIOR CITIZENS FOR ASSESSMENT YEAR 2016-17

- Keshav Ram Singhal

SENIOR CITIZEN


Senior Citizen is an individual resident who is of the age of 60 years or more but below the age of 80 years at any time during the previous year (i.e. born on or after 1st April 1936 but before 1st April 1956 for AY 2016-17).

Tax Rate for Senior Citizen

(i) Where the taxable income does not exceed Rs. 3,00,000 - Income Tax NIL

(ii) Where the taxable income exceeds Rs. 3,00,000 but does not exceed Rs. 5,00,000 - Income Tax Rate - 10% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 3,00,000 (Less) Tax Credit u/s 87A - 10% of taxable income up to a maximum of Rs. 2000.

(iii) Where the taxable income exceeds Rs. 5,00,000, but does not exceed Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 20,000 + 20% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 5,00,000.

(iv) Where the taxable income exceeds Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 120,000 + 30% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 10,00,000.

Surcharge: 12% of the Income Tax, where taxable income is more than Rs. 1 crore. (Marginal Relief in Surcharge. if applicable) - Please refer to the Income Tax Rules for Marginal Relief in Surcharge.
Education Cess: 3% of the total of Income Tax and Surcharge.

SUPER SENIOR CITIZEN

Super Senior Citizen is an individual resident who is of the age of 80 years or more at any time during the previous year ( i.e. born before 1st April 1936 for AY 2016-17)

Tax Rate for Super Senior Citizen

(i) Where the taxable income does not exceed Rs. 5,00,000 - Income Tax NIL

(ii) Where the taxable income exceeds Rs. 5,00,000, but does not exceed Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - 20% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 5,00,000.

(iv) Where the taxable income exceeds Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 100,000 + 30% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 10,00,000.

Surcharge: 12% of the Income Tax, where taxable income is more than Rs. 1 crore. (Marginal Relief in Surcharge. if applicable) - Please refer to the Income Tax Rules for Marginal Relief in Surcharge.
Education Cess: 3% of the total of Income Tax and Surcharge.


Disclaimer: "All efforts are made to keep the abovementioned contents correct and up-to-date, however, I do not make any claim regarding the information provided as correct and up-to-date."

For more accurate information, please refer to the website of Income Tax Department, Government of India. CLICK HERE for the website of Income Tax Department, Government of India.