WELCOME

Thanks for visiting this blog. Please share information about this blog among your friends.

Various information, quotes, data, figures used in this blog are the result of collection from various sources, such as newspapers, books, magazines, websites, authors, speakers etc. Unfortunately, sources are not always noted. The editor of this blog thanks all such sources.

Comments and suggestions are invited.

Keshav Ram Singhal
keshavsinghalajmer@gmail.com
krsinghal@rediffmail.com

Technical and Financial Support - Singhal Institute for Training and Education Trust


Saturday, 26 September 2015

वरिष्ठ नागरिक की आयु परिभाषा निर्धारित करने की जरुरत


वरिष्ठ नागरिक की आयु परिभाषा निर्धारित करने की जरुरत
(Need to determine the age definition of senior citizen)


अधिकांश देशों में वरिष्ठ नागरिक या बुजुर्ग व्यक्ति की आयु निर्धारित करने के लिए कोई सर्वमान्य परिभाषा नहीं है. कुछ देशों में 60 वर्ष और अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ (बुजुर्ग) माना जाता है तो कुछ अन्य देशों मंं 65 वर्ष और अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ (बुजुर्ग) माना जाता है. फिलहाल इस सम्बन्ध में कोई संयुक्त राष्ट्र संख्यात्मक मानक कसौटी (UN Standard Numerical Criterian) नहीं है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र (UN) बुजुर्गों की आबादी के लिए 60+ वर्ष की सीमा पर सहमत है. बुढ़ापे की परिभाषा के लिए सामान्यतौर पर इस्तेमाल परिभाषाए हैं, पर व्यक्ति कब बुजुर्ग या बूढ़ा हो जाता है पर कोई आम सहमति नहीं है.

1875 में ब्रिटेन में 'The Friendly Societies Act' में बुढ़ापे की उम्र '50 के बाद कोई भी उम्र' परिभाषा के रूप में अधिनियमित की गई, पर ज्यादातर पेंशन योजनाओं में उम्र पात्रता के लिए 60 या 65 साल उम्र मानी गई. भारत में भी सर्वमान्य एक परिभाषा नहीं है. आयकर अधिनियम के अंतर्गत वर्तमान में 60 वर्ष से 80 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ नागरिक और 80 वर्ष और अधिक आयुके व्यक्ति को अति-वरिष्ठ नागरिक माना गया है, जबकि कुछ वर्ष पहले 65 वर्ष या अधिक आयु के व्यक्ति को वरिष्ठ नागरिक माना जाता था. भारत सरकार का रेल विभाग रेल टिकट और आरक्षण के लिए 58 वर्ष और अधिक आयु की महिला तथा 60 वर्ष और अधिक आयु के पुरुष को वरिष्ठ नागरिक मानकर रेल टिकट किराए में छूट और रेल आरक्षण में आरक्षण-भाग (Reservation quota) प्रदान करती है. भारत सरकार और अधिकांश राज्य सरकारों की सामाजिक सुरक्षा और वृद्धावस्था पेंशन योजनाओं में 60 वर्ष की आयु पात्रता के लिए रखी गई है. एयर इंडिया भारतीय राष्ट्रीयता के वरिष्ठ नागरिक, जो स्थाई रूप से भारत में निवास करते हों तथा यात्रा के दिन जिन्होंने 63 वर्ष की आयु पूरी कर ली हो, को किराए में रियायत देती है.

भारत में अब पूँजीवाद (Capatalism) धीरे-धीरे अपना पैर पसार रहा है और तकनीक विकास (Technology development) तेजी से हो रहा है. मानव द्वारा किए जाने वाले बहुत से काम अब तकनीक की सहायता से होने लगे हैं और मानव निर्भरता (Human-dependance) कम हो रही है. परिणाम सामने है - रोजगार के अवसर कम हो रहे हैं. लोगों को नौकरी से निकाला जा रहा है, अनिवार्य या स्वैच्छिक सेवानिव्रति (Compulsory or voluntary retirement) दी जा रही है. ऐसे में अब 55 वर्ष और अधिक आयु को वरिष्ठ नागरिक की एक सर्वमान्य परिभाषा के रूप में निर्धारित करने की जरुरत महसूस हो रही है.

आप इस बारे में क्या सोचते हैं? अपनी राय अवश्य रखें.

इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें ताकि वरिष्ठ नागरिक की एक सर्वमान्य परिभाषा बनाने के लिए सरकारी-तन्त्र पर दवाब बन सके. धन्यवाद,

- केशव राम सिंघल

Please CLICK HERE for Senior Citizen Awareness Group.


Wednesday, 23 September 2015

बुजुर्गों में होने वाली बीमारी 'अल्जाइमर' (Alzheimer)






पूरे विश्वं में सितंबर माह 'अल्जाइमर्स माह' (Alzheimer's Month) और 21 सितम्बर 'अल्जाइमर दिवस' (Alzheimer Day) के रूप में मनाया जाता है. आमतौर पर 'अल्जाइमर' बुजुर्गों में होने वाली भूलने की बीमारी है, जो मस्तिष्क से जुड़ी होती है. 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्ति हर बात भूलने लगता है. यहाँ तक कि कुछ समय पूर्व घटना उसे याद नहीं रहती, नाम और पते याद नहीं रहते, जीवन से जुड़ी घटनाएँ याद नहीं रहती. आमतौर से यह पाया गया है कि 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्ति अपने जीवन के अन्तिम पड़ाव पर पहुँच जाता है. विश्वं में भूलने की बीमारी से ग्रसित 70 प्रतिशत बुजुर्ग 'अल्जाइमर' रोग के शिकार होते हैं. इस वर्ष की एक रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्वं में 'अल्जाइमर' से ग्रसित व्यक्तियों की संख्या 4.6 करोड़ से अधिक है और इस रोग से ग्रसित मरीजों की संख्या हर 20 वर्षों में दुगुनी हो रही है. भारत में एक अनुमान के अनुसार इस रोग से ग्रसित मरीजों की संख्या लगभग 40 लाख है.

यह बीमारी क्यों होती है? इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं पता, फिर भी ऐसा माना जाता है कि बढ़ती उम्र और आनुवंशिक कारणों से यह बीमारी होती है जिसमें मस्तिष्क की याददाश्त से जुड़ी तंत्रिकाएँ निष्क्रिय होने लगती हैं. इस बीमारी का प्रारंभिक लक्षण हाल की घटनाओं को भूलने से लगता है. समस्या जब बढ़ती है तो मरीज़ में बोलने की समस्या, आत्म-विश्वास में कमी, मूड में बदलाव, अपनी देखभाल ख़ुद करने में परेशानी आदि देखने को मिलती हैं. इस बीमारी से पीड़ित मरीज सामान रखकर भूल जाते हैं. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे यह रोग भी बढ़ता जाता है. याददाश्त क्षीण होने के अलावा रोगी की सोच-समझ, भाषा और व्यवहार पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. इस बीमारी से ग्रसित लोगों को देखभाल की जरुरत होती है, इसलिए परिजनों का दायित्व बनता है कि वे उचित देखभाल करें. परिजनों की उचित देखभाल ही ऐसे बुजुर्ग को लम्बी आयु प्रदान करते हैं. यह परिजनों का दायित्व है कि इस रोग के उपचार के लिए इस रोग से ग्रसित बुजुर्ग की दिनचर्या को सहज व नियमित बनाएं, समय पर भोजन, नाश्ता, बटन रहित कुर्ता पजामा, सुरक्षा आदि पर विशेष ध्यान दें. बुजुर्ग का कमरा खुला व हवादार हो. इस रोग से ग्रसित बुजुर्ग की आवश्यकता की वस्तुएं एक स्थान पर रखें. इस रोग से इलाज के लिए कुछ ऐसी दवाएं उपलब्ध हैं, जिनके सेवन से इस रोग से ग्रसित बुजुर्गों की याददाश्त और उनकी सूझबूझ में सुधार होता है. ये दवाएं रोगी के लक्षणों की तीव्रता को कम करने या दूर करने में सहायक होती हैं.

भारतीय समाज में इस बीमारी के बारे में ज्यादा जागरुकता नहीं है. आमतौर पर बीमारी के शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज कर दिया जाता है. जरूरत है कि बीमारी के शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज ना किया जाए, बल्कि उचित डाक्टरी परामर्श लिया जाए.

(संकलित सामग्री)

- केशव राम सिंघल

Monday, 21 September 2015

INCOME TAX RATES FOR SENIOR CITIZEN AND SUPER SENIOR CITIZENS FOR ASSESSMENT YEAR 2016-17



INCOME TAX RATES FOR SENIOR CITIZEN AND SUPER SENIOR CITIZENS FOR ASSESSMENT YEAR 2016-17

- Keshav Ram Singhal

SENIOR CITIZEN


Senior Citizen is an individual resident who is of the age of 60 years or more but below the age of 80 years at any time during the previous year (i.e. born on or after 1st April 1936 but before 1st April 1956 for AY 2016-17).

Tax Rate for Senior Citizen

(i) Where the taxable income does not exceed Rs. 3,00,000 - Income Tax NIL

(ii) Where the taxable income exceeds Rs. 3,00,000 but does not exceed Rs. 5,00,000 - Income Tax Rate - 10% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 3,00,000 (Less) Tax Credit u/s 87A - 10% of taxable income up to a maximum of Rs. 2000.

(iii) Where the taxable income exceeds Rs. 5,00,000, but does not exceed Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 20,000 + 20% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 5,00,000.

(iv) Where the taxable income exceeds Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 120,000 + 30% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 10,00,000.

Surcharge: 12% of the Income Tax, where taxable income is more than Rs. 1 crore. (Marginal Relief in Surcharge. if applicable) - Please refer to the Income Tax Rules for Marginal Relief in Surcharge.
Education Cess: 3% of the total of Income Tax and Surcharge.

SUPER SENIOR CITIZEN

Super Senior Citizen is an individual resident who is of the age of 80 years or more at any time during the previous year ( i.e. born before 1st April 1936 for AY 2016-17)

Tax Rate for Super Senior Citizen

(i) Where the taxable income does not exceed Rs. 5,00,000 - Income Tax NIL

(ii) Where the taxable income exceeds Rs. 5,00,000, but does not exceed Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - 20% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 5,00,000.

(iv) Where the taxable income exceeds Rs. 10,00,000 - Income Tax Rate - Rs. 100,000 + 30% of the amount by which the taxable income exceeds Rs. 10,00,000.

Surcharge: 12% of the Income Tax, where taxable income is more than Rs. 1 crore. (Marginal Relief in Surcharge. if applicable) - Please refer to the Income Tax Rules for Marginal Relief in Surcharge.
Education Cess: 3% of the total of Income Tax and Surcharge.


Disclaimer: "All efforts are made to keep the abovementioned contents correct and up-to-date, however, I do not make any claim regarding the information provided as correct and up-to-date."

For more accurate information, please refer to the website of Income Tax Department, Government of India. CLICK HERE for the website of Income Tax Department, Government of India.