WELCOME

Thanks for visiting this blog. Please share information about this blog among your friends.

Various information, quotes, data, figures used in this blog are the result of collection from various sources, such as newspapers, books, magazines, websites, authors, speakers etc. Unfortunately, sources are not always noted. The editor of this blog thanks all such sources.

Comments and suggestions are invited.

Keshav Ram Singhal
keshavsinghalajmer@gmail.com
krsinghal@rediffmail.com

Technical and Financial Support - Singhal Institute for Training and Education Trust


Monday, 3 July 2017

प्रार्थना चिकित्सा (Prayer Therapy)


प्रार्थना चिकित्सा (Prayer Therapy)

उपचार की शक्ति हम सभी के अंदर है. यह हमारे अवचेतन मन में निवास करती है. महत्वपूर्ण यह है कि हमें इसे अपने मानसिक नजरिये से सक्रिय करना है, ताकि हम इच्छित परिणाम प्राप्त कर सकें. हमारे अवचेतन मन में एक ऐसा उपचारक सिद्धांत कायम रहता है, जो हमें रोगों से मुक्त कर सकता है. उपचार की यह प्रक्रिया आस्था के सिद्धांत पर करती है और आस्था के अनुरूप ही परिणाम मिलते हैं. जीवन का नियम विश्वास है. विश्वास मस्तिष्क का एक विचार है, जिसकी वजह से अवचेतन मन की शक्ति हमारी सोच के अनुसार इच्छित परिणाम की ओर बढ़ती है. हमारे मस्तिष्क का विश्वास हमारे मस्तिष्क का विचार है.



प्रार्थना चिकित्सा (Prayer Therapy) मस्तिष्क में काम करती है. यह मस्तिष्क के चेतन और अवचेतन स्तरोँ पर क्रमबद्ध, सामंजस्यपूर्ण और बुद्धिमतापूर्ण तरीके से काम करती है और उपचार के उद्देश्य से मस्तिष्क को निर्देशित करती है. हमारी बीमारी हमारे मन में रहने वाले भय से युक्त नकारात्मक विचारों के कारण बढ़ी. नकारात्मक विचारों को हटाकर सकारात्मक विचारों द्वारा हम अपने मन की उपचारक शक्ति की ओर मुड़ सकते हैं. ध्यान रहे - प्रार्थना चिकित्सा (Prayer Therapy) के साथ हमें अपना चिकित्सा उपचार (Medical Treatment) जारी रखना चाहिए.

हमें यह याद रखना चाहिए कि हमारे पास असीमित उपचारक शक्ति है, जो हर बीमारी का उपचार करने में सक्षम है.

प्रार्थना चिकित्सा के लिए निम्न विधि अपनाएं. प्रतिदिन सोने से कुछ समय पहले शांत मन से विचार करें कि मैं ठीक हो रहा हूँ और सुबह तक मैं और ठीक हो जाऊंगा. भगवान को धन्यवाद दें कि वह मुझे ऊर्जा दे रहा है और मैं बेहतर स्वास्थ्य के ओर बढ़ रहा हूँ.



आप निम्न प्रार्थना मन ही मन में दोहराएं - "हे परमेश्वर ! मैं आपको धन्यवाद देता हूँ कि आपने मुझे असीमित शक्ति दी है. यह संसार बहुत ही सुन्दर है और मेरा जीवन पहले से सुखमय होता जा रहा है. मैं आपसे अधिक सुखमय होने की प्रार्थना करता हूँ और विश्वास करता हूँ कि सुबह तक मैं और ठीक हो जाऊंगा. मैं आपको नमन करता हूँ."

विश्वास रखें - मेरा अवचेतन मन मेरे मन की उपचारक शक्ति को अधिक सक्रिय करेगा.

शुभकामनाओं के साथ,

केशव राम सिंघल

Sunday, 28 May 2017

पर ये हकीकत है, सब दोस्त थकने लगे है...


पर ये हकीकत है,
सब दोस्त थकने लगे है...


साथ साथ जो खेले थे बचपन में,
वो दोस्त अब थकने लगे है...

किसीका पेट निकल आया है,
किसीके बाल पकने लगे है...

सब पर भारी ज़िम्मेदारी है,
सबको छोटी मोटी कोई बीमारी है...

दिनभर जो भागते दौड़ते थे,
वो अब चलते चलते भी रुकने लगे है..

पर ये हकीकत है,
सब दोस्त थकने लगे है...

किसी को लोन की फ़िक्र है,
कहीं हेल्थ टेस्ट का ज़िक्र है...

फुर्सत की सब को कमी है,
आँखों में अजीब सी नमीं है...

कल जो प्यार के ख़त लिखते थे,
आज बीमे के फार्म भरने में लगे है...

पर ये हकीकत है
सब दोस्त थकने लगे है...

देख कर पुरानी तस्वीरें,
आज जी भर आता है...

क्या अजीब शै है ये वक़्त भी,
किस तरहा ये गुज़र जाता है...

कल का जवान दोस्त मेरा,
आज अधेड़ नज़र आता है...

ख़्वाब सजाते थे जो कभी ,
आज गुज़रे दिनों में खोने लगे है...

पर ये हकीकत है
सब दोस्त थकने लगे है...

(लेखक - अज्ञात)

सोशल मीडिया (वाट्सएप्प) से साभार